Hindi Sad PoemPoem

और वक़्त के साथ ‘हम’ बदल गए है

Waqt Ke saath Hum badal gye hai..

पहले के टाइम मैं,
‘I am fine’ कहकर अपने दिल की बात छुपा लेती थी,
आज ‘sab badiya hai’ कह देती हूं!!

पहले रात का चांद नसीब होता था,
और अब ना चाँद है, ना ही सवेरा!!

पहले मैं अपने दिल की बात कह दिया करती थी,
और अब दिल में कोई हलचल नही होती!!

Waqt Ke saath Hum badal gye hai..
Waqt Ke saath Hum badal gye hai..

पहले बेफिक्र रहा करती थी,
और अब फिक्र करना मानो आदत हो गयी हो!!

पहले बिंदास थी,
और अब डर कर रहती हूं!!

पहले सब कुछ अच्छा था,
और अब कुछ अच्छा नही है!!

पहले अपने पापा की बच्ची थी,
और अब ज़िम्मेदार लड़की हूं!!

पहले समाज की गंदगी से दूर थी,
और अब समाज का हिस्सा हूं!!

पहले मैं जीती थी, अपने लिए,
अब बस ज़िंदा हूं, अपनो के लिए!!

पहले भी कुछ नही बदला था,
आज भी कुछ नही बदला है,
बस वक़्त बदल गया है!!

और वक़्त के साथ ‘हम’ बदल गए है …!

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Avani Agarwal
Avani Agarwal
1 year ago

Heart touching lines ??

Sonam
Sonam
1 year ago

Very nice.. truly said..

Comment here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

3
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x