Hindi Sad PoemPoem

मुझे छोड़ कर न जाओ

मुझे छोड़ कर न जाओ

बस मुझे छोड़ कर न जाओ
यूही दिल तोड़ कर न जाओ

तुम फूल हो
खुशबू देती हो
उस फूल को तोड़ कर न जाओ
बस मुझे छोड़ कर न जाओ

काटे से होते हुए
ये फूल नज़र आता है
पत्ता-पत्ता जर्रा-जर्रा
हर डाल नज़र आता है
पत्ते सा बिखर कर न जाओ

मुझे छोड़ कर न जाओ

बस मुझे छोड़ कर न जाओ

तुम खिल रही हो फूल सा
तुम बढ़ रही हो डाल सा
तुम बस मेरी छाया बन जाओ
बस मुझे छोड़ कर न जाओ

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Comment here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x